खांसी की आयुर्वेदिक दवा – खांसी और कफ के आयुर्वेदिक इलाज

खांसी की आयुर्वेदिक दवा
Khanshi

हेलो दोस्तों, आज के आर्टिकल हम बात करेंगे खांसी की आयुर्वेदिक दवा के बारे में जिसमे हम खांसी के लिए कुछ ऐसी आयुर्वेदिक दवाओं के बारे में बात करेंगे जिसका इस्तेमाल करके आप छुटकारा पा सकते है और वो भी बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के।
आज के आर्टिकल के लिए हमने अमेज़न पे अवेलेबल सारी अच्छी आयुर्वेदिक दवाओं के बारे में रेसीएच करि है और उसमे से जो बेस्ट है वो हम आपके लिए ले कर आये है। आशा करता हूँ आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ेंगे ताकि आप जल्दी से जल्दी अपनी खांसी से छुटकारा पा सके।
खांसी की आयुर्वेदिक दवा के बारे में बात करने हम लोग खांसी के चर्चा कर लेते है , जो की मेने ‘खांसी की दवा पतंजलि’ ब्लॉग में खांसी के बारे में बोहत सारी जानकारी सी है पर फिर भी हमारा फ़र्ज़ बनाता है की किसी चीज़ की दवा को सजेस्ट करने से पहले उस चीज़ और वो होने के कारण के बारे में जान ले ताकि प्रॉब्लम की जड़ तक पोहच सके और जान सके की उसका इलाज कैसे करना है।
कैसे हमें खांसी से छुटकारा दिलवाएगी।

एक और चीज़ में आपको बताना चाहूंगा की यह खांसी की आयुर्वेदिक दवा तभी यूज़ करे जब आपकी खांसी बोहत पुराणी नहीं है , अगर आपको 2 , 3 महीने से खांसी की प्रॉब्लम है तो यह दवा या फिर घरेलू नुश्खे ना अपना कर आप सीधा डॉक्टर से संपर्क करे।
तो आपका ज्यादा समय ना लेते हुए , चलिए शुरू करते है।

खांसी क्या है ?

खांसी एक प्रतिवर्ती प्रक्रिया है जो हमारे एयरवेज और बलगम को साफ़ कराती है।
खांसी सामान्य तौर पर दो प्रकार की होती है , एक तो ड्राई कफ और एक वेट कफ। ड्राई कफ का मतलब है सुखी खांसी जिसमे कफ या म्यूकस पैदा नहीं होते है और जिसे हम नॉन प्रोडक्टिव खांसी भी कह सकते है।
वेट कफ मतलब ऐसी खांसी जो कफ पैदा करती है , और जिसे हम प्रोडक्टिव खांसी भी कह सकते है।

खांसी होने के कारण

खांसी होने के कई कारण है। ज्यादातर लोगो को खांसी सामान्य करनी जैसे की धूल , एलर्जी , शर्दी की वजह से होती है या फिर खांसी ashthma , TB जैसी बीमारी की वजह से भी हो सकते है। की वजह से भी हो सकती है।
खांसी बोहत ही सामान्य चीज़ है जो सबको होती है पर अगर खांसी आपको मिट ही नहीं रही है और बोहत लम्बे समय से हो रही है तो वे आपके लिए बीमारी का संकेत हो सकता है , ऐसी परिस्थिति में आपको सबसे पहले डॉक्टर के पास जाना है।
नाक और गले में किसी बाहरी पदार्थ के कारण एलर्जी होने से सूखी खांसी हो सकती है।

खांसी की आयुर्वेदिक दवा

अब बात करते है आज के मुख्य टॉपिक खांसी की आयुर्वेदिक दवा के बारे में जिसमे हम अमेज़न पे अवेलेबल ऐसी बोहत सारी आयुर्वेदिक दवा और अच्छी क्वालिटी की दवा आपके लिए लेकर आये है जो आपकी खांसी के लिए रामबाण इलाज हो सकता है।

1 Charak Pharma Kofol

इस खांसी की दवा को पुदीना , यस्तिमधु , अदरक जैसे प्राकृतिक इंग्रेडिएंट को मिश्रित करके बनाया गया है और पुरे तरीके से प्राकृतिक है जिसका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है।

CHECKOUT PRICE

यह खांसी की आयुर्वेदिक दवा को हम चबा कर खा सकते है और यह स्पेशली खांसी से राहत देने के लिए तैयार की गई है।
इस दवा के एक पैक में गले की सूजन और जलन से छुटकारा पाने में मदद करने के लिए 60 गोलियां होती हैं।
दीना , यस्तिमधु , अदरक साथ इसमें मेंथोल , काली मिर्च , कैम्फर , लवंग तेल जैसे इंग्रेडिएंट भी है जो गले को प्रभावी ढंग से ठीक करने और शांत करने के लिए शीतलन प्रभाव प्रदान करते हैं , और यह प्रोडक्ट 100 % आयुर्वेदिक है।
टैबलेट पूरी तरह से शुगर फ्री है, इसीलिए यह दवा कोई भी ले सकते है और यह दवा का उपयोग डायाबिटीस के मरीज़ भी कर सकते है।
इसमें सामेल अदरक गले की खराश को दूर करने और गले के कफ से राहत देता है।
यह खांसी और इसकी संबंधित असुविधाओं में मदद करता है, आपको बेड ब्रेथ की समस्याओं से मुक्त करता है।
लेकिन आपको ध्यान रखना है की खांसी की सिचुएशन में ठंडा पानी या कोई भी ठंडी चीज़ न खाए।

कैसे इस्तेमाल करे : कंपनी सजेस्ट कराती है की दिन में हर 6 घंटे बाद 1 से 2 गोलियां लें जब तक कि लक्षणों से राहत न मिल जाए।

2. Saffola Immuniveda कड़ा मिक्स आयुर्वेदिक हर्बल ड्रिंक

इस Khanshi ki dawa को तुलसी, डालचिनी, कालीमिरी, सुन्थी और 11 आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से बनाया गया है और यह सभी आपके लिए बिलकुल सुरक्षित है।

CHECKOUT PRICE

इस आयुर्वेदिक प्रोडक्ट को काली या हरी चाय के साथ भी मिला सकते हैं और इसे हर्बल चाय के रूप में भी पि सकते है।
खांसी के लिए उपयोगी यह आयुर्वेदिक दवा हमारी इम्युनिटी को मजबूत करने में भी उतनी ही उपयोगी है और हमारी स्वच्छोश्वास की प्रक्रिया को भी इम्प्रूव करने में मदद करता है।
इस आयुर्वेदिक हर्बल पेय में अश्वगंधा, गिलोय, हरिद्रा, अमला, मनुका की शक्ति है, जो इम्यूनिटी को बढ़ावा देने में मदद करती है।
सुंठी, तुलसी, येस्टिमाधु, कंटाकरी की शक्ति गले की खराश और खांसी से छुटकारा दिलवाती है।
वासा, कालीमिरी, येस्तिमाधु, कंकोल की शक्ति हमारी स्वसन प्रक्रिया को अच्छा रखने में मदद करता है।
यह कैसे बनाता है : यह अनोखा कड़ा पारंपरिक तरीके से बनाया गया है, 15 जड़ी बूटियों को कुचल दिया जाता है और एक शक्तिशाली डेकोक्शन बनाने के लिए घंटों तक पानी में उबला जाता है, जो आपके लिए सिंगल सर्व पाउच में पैक किया जाता है।

कैसे इस्तेमाल करे : इस पाउडर को एक कप में दाल ले , कप में 130 से 150 ml गर्म पानी डाले। अच्छे से पानी और पाउडर को मिक्स करे और आपके लिए यह तैयार हो जाएगा और आप पी सकते है।

3. Bibo शॉट्स – हॉट कड़ा मिक्स

इस खांसी की दवा को मेंथोल , तुलसी , अदरक ,वासा जैसे इंग्रेडिएंट को मिश्रित करके बनाया जाता है और यह सभी इंग्रेडिएंट के अपने बोहत ज्यादा फायदे है और इसी लिए कंपनी ने सारे इंग्रेडिएंट को मिला कर खांसी के लिए पाउडर के रूप में काढ़ा तैयार किया है।

CHECKOUT PRICE

खांसी के लिए एक बोहत ही बेहतरीन आयुर्वेदिक दवा है जो लेने में भी बोहत आसान है आपको बस पानी में मिला कर पीना है।
यह काढ़ा बच्चो के लिए भी सुरक्षित है और बच्चे भी इसका इस्तेमाल कर सकते है।
खांसी के निवारण के साथ साथ यह K इम्युनिटी को बेहतर बनाने में भी मदद करता है तो यह दवा के खांसी के अलावा भी बोहत सारे फायदे है।
यह दवा में एंटी वायरल और एन्टी बैक्टीरियल गुण है जो खांसी के लिए जिम्मेदार बक्टेरिआ का नाश करता है।
इस आयुर्वेदिक दवा में मेंथोल उपयोग किया गया है जिससे हमें इंस्टेंट रिलीफ मिलता है , और साथ ही साथ इसमें शहद का भी उपयोग किया गया है जो गले की खरास को कम करता है। शामिल अदरक का उपयोग कई सालो से बोहत सारी बिमारियों से लड़ने में हमारी मदद करता है।
इस आयुर्वेदिक दवा में किसी भी प्रकार के केमिकल का उपयोग नहीं किया गया है तो ज़ाहिर है की इसका कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं है।
कैसे इस्तेमाल करे : 100 ml गर्म पानी लेकर उसमे इस पाउडर को डाले और फिर अच्छे से मिक्स कर दे।

4. Honitus हॉट सिप आयुर्वेदिक काढा

डाबर हनीटस हॉट सिप 15 शक्तिशाली आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का एक अनूठा मिश्रण है जिसमें शुंथि, कंटकारी और तुलसी शामिल हैं जो शहद के साथ मिलकर आपको खांसी और सर्दी से प्रभावी राहत के लिए एक शक्तिशाली और प्रभावी प्राकृतिक फॉर्मूलेशन प्रदान करते हैं।
यह पिने के लिए भी बोहत आसान है और पुरे तरीके से प्राकृतिक है जो की आपके लिए बिलकुल सेफ है और इसका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होगा।
इसे बनाना भी बोहत आसान है और बोहत जल्दी अपना असर दिखाना शुरू कर देता है।
अदरक , शहद , तुलसी जैसे 15 आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का मिश्रण किया गया है , और सभी इंग्रेडिएंट के गुण खांसी के निवारण के लिए अत्यंत प्रभावी है।
कैसे इस्तेमाल करे : बस इसे गर्म पानी में घोलें, पीएं और आयुर्वेद की अच्छाइयों का अनुभव करें।
अमेज़न पे इसे कई लोगो ने इस्तेमाल किया है और उसमे से 600 से ज्यादा लोगो ने अपना रिव्यु दिया है जिसे इस प्रोडक्ट को 5 में से 4.5 रेटिंग मिला है जो की काफी अच्छा माना जाता है।
इसे ‎ Dabur India Limited गया है जो अपनी अच्छी क्वालिटी के लिए सालो से इंडिया में अच्छा काम कर रही है।
बाकी प्रोडक्ट्स के कम्पेरिज़न में यह खांसी की आयुर्वेदिक दवा काफी सस्ती है।

5. कर्की पेस्टिल

CHECKOUT PRICE

प्रत्येक कर्की पेस्टिल में 100 मिलीग्राम कर्क्यूमिन होता है, हल्दी के सक्रिय घटक (हल्दी- कर्कुमा लोंगा) जिसमें Anti-inflammatory, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते है।
गले की खराश और खांसी से त्वरित राहत देता है।
कर्की में शक्तिशाली कर्क्यूमिन होता है, जिसे प्राकृतिक हल्दी से निकाला जाता है। हल्दी में सिर्फ 3% कर्क्यूमिन होता है, इसलिए यदि आपके पास सादा हल्दी होती है तो आपको एक कर्की पेस्टिल का काम करने के लिए 30 गिलास हल्दी दूध का उपयोग करना होगा।
गले में खराश खांसी, ठंड, फ्लू या श्वसन संक्रमण जैसे विभिन्न श्वसन जटिलताओं का संकेत हो सकता है, कर्की न केवल गले की जलन, खांसी , सूजन, दर्द से त्वरित राहत प्रदान करती है बल्कि एक इम्युनिटी बूस्टर के रूप में भी काम करती है।
इस खांसी की दवा के एंटीऑक्सीडेंट गुण मौसमी और आवर्ती संक्रमण के खिलाफ आपके शरीर की प्राकृतिक प्रतिरक्षा बढ़ाने में मदद कर सकते हैं।
कर्की पेस्टिल के साथ एक पेटेंट फॉर्मूलेशन है जो अन्य कर्क्यूमिन टैबलेट या कैप्सूल की तुलना में 9 गुना अधिक bioavailability सुनिश्चित करता है।
कर्की पेस्टिल शुगर फ्री है तो यह सभी के लिए उपयुक्त है अगर आपको डायबिटीस भी है तब भी आप इसका उपयोग कर सकते हो।
कर्की आपकोअच्छे स्वास्थ्य में रखने का एक स्वादिष्ट तरीका है।

6. Dabur तुलसी टैबलेट

CHECKOUT PRICE

Dabur भारत का सबसे भरोसेमंद नाम है और दुनिया की सबसे बड़ी आयुर्वेदिक और प्राकृतिक हेल्थ से सम्बंधित प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी है।
खांसी के लिए अगर आप आयुर्वेदिक दवा धुंध रहे हो तो यह दवा की और भी आप रुख कर सकते हो।
Dabur तुलसी टैबलेट खांसी के निवारण के साथ साथ इम्युनिटी को बेहतर बनाने में और स्किन की अच्छी हेल्थ के लिए भी उतनी ही उपयोगी है।
Dabur तुलसी टैबलेट 100% आयुर्वेदिक श्वसन स्वास्थ्य बूस्टर टैबलेट हैं जो आपके पूरे श्वसन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करते है।
तुलसी एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एनाल्जेसिक और एंटी-ऑक्सीडेंट क्रियाओं के अपने अद्वितीय संयोजन के कारण श्वसन स्वास्थ्य में सहायता करती है और गले में खराश, अतिरिक्त थूक उत्पादन और अन्य श्वसन समस्याओं से राहत देती है।
बोहत सारे अध्ययनों से पता चला है की तुलसी बैक्टीरिया की संख्या को कम करती है और बढ़ी हुई फागोसाइटिक एक्टिविटी और फागोसाइटिक इंडेक्स के साथ न्यूट्रोफिल और लिम्फोसाइट गिनती में वृद्धि करती है।
यह प्रोडक्ट पुरे तरीके से केमिकल से मुक्त है और 100% नेचरल इंग्रेडिएंट से बनाई गई है और आपके लिए बिलकुल सेफ है।
कैसे इस्तेमाल करे : अच्छे रिजल्ट के लिए, पानी के साथ रोजाना दो बार एक टैबलेट लें। या फिर आप अपने डॉक्टर को पूछ को भी कब लेना है ये डिसाइड कर सकते हो।

7. Himalaya Wellness प्योर हर्ब तुलसी

CHECKOUT PRICE

इस प्रोडक्ट का मैन इंग्रेडिएंट तुलसी है और तुलसी एक औषधीय पौधा है और हिंदू धर्म में इस पौधे का विशेष महत्व है।
यह दवा खांसी को दूर करने में मदद करती है और कफ(बलगम) से राहत पाने के लिए भी एक बोहत ही अच्छा ऑप्शन है।
तुलसी को रोगाणुरोधी गुणों के लिए जाना जाता है और हिमालय की यह आयुर्वेदिक दवा का मुख्य इंग्रेडिएंट ही तुलसी है लिए एक बोहत ही अच्छा ऑप्शन हो सकता है।
हिमालय तुलसी स्वसन तंत्र को बेहतर बनाने के लिए भी बोहत लाभदाई है। तुलसी में एंटी माइक्रोबायल , एंटी इंफ्लेमेंटरी प्रॉपर्टीज होती है जो खांसी को अच्छा बनाने में और स्वसन तंत्र को बेहतर बनाने में मदद करती है।
हिमालया वैलनेस बोहत ही ज्यादा उपयोग में लिया जाने वाला और ऐमज़ॉन से इसको बोहत ज्यादा लोगो ने आर्डर किया जिसमे से 2614 लोगो ने 5 में से 4.3 रिव्यु दिया है माना जाता है।
यह आयुर्वेदिक दवा शुगर , आर्टिफिसियल कलर ,कृत्रिम स्वाद और बाकी हानिकारक प्रिज़र्वेटिव्स से मुक्त है तो यह आपको कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं देगा और साथ में यह प्योर वेजिटेरिअन है तो अगर आप मांसाहार नहीं भी इसका इस्तेमाल कर सकते हो।
गर्भावस्था ,स्तनपान जैसी परिस्थिति में ना ले और अगर लेना है तो डॉक्टर की सलाह ज़रूर ले।
कैसे इस्तेमाल करे : एक कैप्सूल, दिन में दो बार ले या फिर अपने डॉक्टर से भी सलाह ले सकते है।

8. खांसी की दवा पतंजलि – Patanjali Divya Swasari Pravahi

Patanjali Divya Swasari Pravahi लेने के लिए आपको डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्सन की ज़रुरत नहीं है और इसका इस्तेमाल सर्दी , खांसी या ज़ुकाम जैसी समस्या के लिए किया जाता है।
पतंजलि की क्वालिटी के बारे में शायद मुझे आपको बताने की ज़रुरत नहीं है और पतंजलि हमें कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं देता क्यों की वे बिलकुल प्राकृतिक तरीको से बनाया गया है।
Patanjali दिव्य स्वासरी को लौंग , अदरक , अभ्रक भस्म , मुक्ताशुक्ति भस्म जैसे इंग्रेडिएंट को मिश्रित करके बनाया गया है जो हमें खांसी से छुटकारा देने में मदद करेंगे।
इसके अलावा Patanjali Divya Swasari Pravahi का उपयोग जैसे की सूजन को कम करने के लिए, इम्मयूनिटी को बढ़ता है , अस्‍थमा की बीमारी में अस्‍थमा के लक्षणों के रोकने के लिए भी इस पतंजलि की दवा का इस्तेमाल हम कर सकते है।

खांसी के इलाज के लिए घरेलु नुश्खे

  • अगर आपको सुखी खांसी है तो तो तुलसी आपके लिये बोहत ज्यादा फायदेमंद है और उसका असर बढ़ाने के लिए आप उसमे अदरक और शहद मिला सकते है।
  • आंवला खांसी के लिए काफी असरकार होता है। आंवला में विटामिन-सी होता है, जो ब्लड सरकुलेशन को बेहतर बनाता है। अपने खाने में आंवला शामिल कर आप एंटी-ऑक्सीडेंट्स का सोर्स बढ़ा सकते है, और आंवला आपकी इम्मयूनिटी को भी बढ़ाता है।
  • गीली खाँसी के लिए भांप आपके लिए बोहत ही अच्छा ऑप्शन हो सकता है। गर्म स्नान या शॉवर द्वारा बनाई गई भाप हवा में मॉइस्चराइज़र को एड कर के खांसी को कम करने में मदद कर सकती है।
  • हल्दी में एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल प्रॉपर्टी होती है जो की इन्फेक्शन से बचाता है। रात को सोने से पहले हल्दी वाला दूध पीना अच्छा माना जाता है।
  • नमक और पानी के गरारे करने से गले में खराश से हमें राहत मिलती है जिससे आपको खांसी नहीं होती । एक गिलास पानी में आधा निम्बू निचोड़ कर गरारे करने से भी लाभ होता है।
  • खांसी के लिए अच्छा ऑप्शन है। शहद में एक चुटकी इलायची और नीबू का जूस डेल। इस मिश्रण को दिन में दो-तीन तीन बार ले।

यह भी पढ़े :>

खांसी की दवा पतंजलि – बाबा रामदेव की सुझाई हुई खांसी की आयुर्वेदिक दवा
एलर्जी की दवा पतंजलि – Best allergy ki dava, एलर्जी की आयुर्वेदिक दवा
Bhukh badhane ki syrup ,Tablet ,dawa : बेस्ट मोटा होने का सिरप

तो दोस्तों , आज का हमारा आर्टिकल खांसी की आयुर्वेदिक दवा यहाँ पर ख़तम होता है , आशा करता हूँ यह आपकी लाइफ में थोड़ी वेल्यू एड कर पाया होगा और आपको पसंद आया होगा।
मेरे द्वारा दी गई सारी खांसी की दवा आपके लिए सेफ है और इसका साइड इफ़ेक्ट नहीं है , और इन के अलावा भी कई दवाई है तो अगर आप कोई और दवा लेना चाहते है तो भी आप ले सकते है।
अगर आपको इस आर्टिकल से रिलेटेड कोई भी समस्या है या फिर सजेसन है तो आप हमें mail करके बता सकते है कमेंट भी कर सकते है।

धन्यवाद।

2 thoughts on “खांसी की आयुर्वेदिक दवा – खांसी और कफ के आयुर्वेदिक इलाज”

Leave a Comment